लिटिल बर्ड पब्लिकेशंस की स्थापना श्रीमती कुसुमलता सिंह (एम.ए. हिंदी साहित्य, बी.एड, एम.फिल) के द्वारा 2015-16 में की गई। इसकी स्थापना इस ध्येय के साथ की गई कि हिंदी और अंग्रेजी साहित्य की सभी विधाओं में स्तरीय और सार्थक विषय पर लिखी गई रचनाओं की आकर्षक आवरण, सुंदर साज-सज्जा वाली बढ़िया कागज की सस्ती पुस्तकें तैयार की जा सकें। समयानुसार धीरे-धीरे लिटिल बर्ड प्रकाशन ने आदिवासी साहित्य और बाल साहित्य की पुस्तकों का प्रकाशन बड़े पैमाने पर शुरू किया। हमें यह कहने में गर्व है कि लिटिल बर्ड की निदेशक कुसुमलता सिंह के लिए हर पुस्तक मूल्यवान कृति होती है और लिटिल बर्ड की टेक्निकल टीम के लिए प्रत्येक पुस्तक की साज-सज्जा आकर्षक हो बढ़िया छपाई, उसका अच्छा कागज होना एक अनिवार्य शर्त होती है। यही कारण है कि हमारे यहाँ पूरी लगन और निष्ठा से पुस्तक का प्रकाशन किया जाता है। हमें यह बताते हुए गर्व है कि लिटिल बर्ड प्रकाशन से 2021 में प्रकाशित पुस्तक के रचनाकारों ज्योत्सना ‘प्रवाह’ की पुस्तक ‘मनवा रे...!’ पर उ.प्र. हिंदी संस्थान का आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी सम्मान तथा ‘साइकिल और अन्य कविताएँ’ पर डाॅ. पद्मा शर्मा को म.प्र. का ‘साकीबा सम्मान’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। भविष्य में लिटिल बर्ड प्रकाशन मराठी और उर्दू में पुस्तक प्रकाशन की योजना बना रहा है।